• Vishwajeet Maurya

KozhikodePlaneCrash: क्या होता है 'टेबलटॉप' रनवे? जहाँ विमानों की लैंडिंग होती है जोख़िम भरी

कोरोना और भारी बारिश तथा भूस्‍खलन से जूझ रहे केरल में शुक्रवार शाम बड़ी दुर्घटना हुई, डीजीसीए के मुताबिक एअर इंडिया एक्सप्रेस AXB1344, बोइंग 737 दुबई से कालीकट आ रहा था. भारी बारिश के कारण रनवे पर उतरने के बाद विमान फिसल गया और घाटी में गिर गया. वहीं विमान दो हिस्सों में टूट गया. विमान में 190 लोग सवार थे. इनमें 184 यात्री और 6 क्रू मेंबर सवार थे. साथ ही यात्रियों में 10 बच्चे भी शामिल थे. इस हादसे में विमान के दोनों पायलटों समेत 18 लोगों की मौत हो गई. अधिकारियों ने कहा कि सभी लोगों को निकाल लिया गया है और कम से कम 50 घायलों को उपचार के लिए अस्पताल भेजा गया है. पिछले कई दिनों से केरल में भारी बारिश हो रही हैं.

Report- Govind Pratap Singh


ग्लोबल फ्लाइट ट्रैकर ने अपने वेबसाइट पर दर्शाया है कि केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट के रनवे पर फिसलने वाली एयर इंडिया एक्सप्रेस प्लेन को कम से कम दो बार लैंड कराने की कोशिश की गई थी. एक स्विडिश फर्म की ट्रैकिंग वेबसाइट 'फ्लाइटट्रेडर24' कमर्शियल फ्लाइट की रियल टाइम ट्रैकिंग को मैप के जरिए जानकारी देती है.

हालांकि दुर्घटना का शिकार होने के बाद इसमें आग नहीं लगी, जिसे राहत की बात समझी जा रही है। मौके पर दमकल की गाड़ियां और एंबुलेंस पहुंच गई हैं और बचाव कार्य शुरू कर दिया गया था। बताया जा रहा है कि यह एक टेबल टॉप रनवे था और इसलिए यहां लैंडिंग के दौरान मुश्किल आई और विमान दुर्घटनाग्रस्‍त हो गया।



क्‍या होता है टेबल टॉप रनवे?


एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान जहां हादसे का शिकार हुआ है, उसे टेबल टॉप रनवे बताया जा रहा है। यह देखने में जितना खूबसूरत होता है, यहां लैंडिंग उतनी ही जोखिम भरी होती है।


टेबल टॉप रनवे एक ऐसा रनवे होता है, जो अमूमन पठार या पहाड़ के शीर्ष पर होता है। इसमें कई बार एक तरफ या कई बार दोनों तरफ गहरी ढाल होती है, जिसके नीचे घाटी होती है। यहां लैंडिंग और उड़ान दोनों के दौरान खास एहतियात बरतने की जरूरत होती है और इसके लिए पायलट का विशेष रूप से दक्ष होना आवश्‍यक होता है। थोड़ी भी चूक यहां बड़े हादसों को आमंत्रित कर सकती है।


भ्रम पैदा करते हैं ऐसे रनवे!


ये सभी एयरपोर्ट पहाड़ की ऊंचाई पर स्थित हैं और यहां कई बार लैंडिंग के दौरान पायलटों के लिए ऑप्टिकल भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है, जिसमें उन्‍हें पहाड़ी पर स्थित एयरपोर्ट व नीचे के मैदानी इलाके समानांतर नजर आने लगते हैं। इसके अतिरिक्त यहां स्‍पेस भी अपेक्षाकृति कम होता है, जबकि रनवे के एक या दोनों तरफ गहरी ढाल भी मुसीबत बन सकती है, जिससे विमान सीधे घाटी में जा सकता है, जैसा कि शुक्रवार को कालीकट एयरपोर्ट पर हुआ। यही वजह है कि इन एयरपोर्ट्स पर लैंडिंग और उड़ान के लिए पायलटों से अतिरिक्‍त कुशलता और सतर्कता की अपेक्षा की जाती है।


देश में ऐसे तीन एयरपोर्ट


देश में तीन ऐसे एयरपोर्ट हैं, जो बेहद ऊंचाई पर स्थित हैं और इन्‍हें टेबलटॉप रनवे कहा जाता है। इनमें एक केरल के मलाप्पुरम में स्थित कालीकट इंटरनेशनल एयरपोर्ट है, जहां शुक्रवार शाम बड़ा हादसा हुआ है। यह एयरपोर्ट जिले के कारीपुर में स्थित है और कोझीकोड से करीब 28 किलोमीटर दूर है। इस तरह का दूसरा एयरपोर्ट कर्नाटक के मंगलुरु में है, जबकि तीसरा एयरपोर्ट मिजोरम में है। पहाड़ों की वादियों के बीच इन एयरपोर्ट्स की प्राकृतिक खूबसूरती देखते ही बनती है, लेकिन यहां जोखिम भी उतना ही अधिक होता है।


एयरपोर्ट के बनावट के कारण ही कई अंतरराष्ट्रीय एयरलाइंस ने जिनमें बोइंग 777 और एयरबस A330 जेट जैसे विमान शामिल हैं ने कोझीकोड से अपनी उड़ान को बंद कर रखा है. केरल के चार हवाई अड्डों में से कोझिकोड हवाई अड्डा सबसे छोटा रनवे है. पिछले कुछ दिनों से हुई लगातार बारिश के कारण भी रनवे को काफी नुकसान हुआ था.


हादसे पर केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी-


"कोझिकोड में हुए विमान हादसे में 2 पायलट समेत 18 लोगों की मौत हुई है, ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है. 127 लोग अस्पताल में भर्ती हैं. शुक्र है कि विमान में आग नहीं लगी। मैं कोझिकोड एयरपोर्ट जा रहा हूं."


Tag- #News | #BreakingNews | #Accident

#national | #KozhikodeAirIndiaExpressPlaneCrash | #PlaneCrash

# KeralaPlaneCrash | #PilotDeepakVasantSathe | #केरलविमानहादसा

ये भी पढ़ें: #COVID19: भारत में 21 दिनों में 10 लाख नए मरीज, कुल आँकड़े 20 लाख के पार

ये भी पढ़ें: UP B.Ed. Entrance Exam 2020: परीक्षा के नाम पर साढ़े 4 लाख़ अभ्यर्थियों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ क्यों?


ये भी पढ़ें: गृहमंत्री अमित शाह #COVID19 पॉजिटिव, उन्हें मेदांता में भर्ती कराया गया।

ये भी पढ़ें: स्ट्रीट डॉग को पनाह देने वाली साक्षी शर्मा के वायरल वीडियो के पीछे का जानिए पूरा सच !


24 views

©Newziya 2019, New Delhi.