• Newziya

प्लेटफॉर्म टिकट न लेने वालों के अच्छे दिन ख़त्म !

Updated: Apr 5, 2019

आनन्द श्रीवास्तव

आए दिन हम अपने रिश्ते नातेदारों को स्टेशन छोड़ने जाते है. इस दौरान हम अक्सर कभी जानबूझकर तो कभी ज़ल्दबाज़ी में एक बहुत ज़रूरी काम भूल जाते हैं. वह है प्लेटफॉर्म टिकट लेना. लेकिन अब अगर ऐसा हुआ तो आपकी जेब पर टिकट चेकर सर्जिकल स्ट्राइक कर देंगे. एक प्लेटफॉर्म टिकट महज़ दस रुपए का मिलता है. हां बीच में यह अफ़वाह उड़ी थी कि प्लेटफॉर्म टिकट महंगा हो गया है. लेकिन यह अफ़वाह भर थी. रेलवे की एक छोटी सी ग़लती. विजयवाड़ा में ग़लती से 10 रु. की जगह 20 रु. छप गया था.


विजयवाड़ा जंक्शन का ग़लत प्लेटफॉर्म टिकट

बग़ैर प्लेटफॉर्म टिकट के पकड़े जाने पर टीटीई यानी Travelling Ticket Examiner आपसे 250 रुपए ज़ु्र्माना वसूल सकते हैं. और सुनिए अगर आप प्लेटफॉर्म टिकट के बिना पकड़ा गए हैं. उसी समय प्लेटफॉर्म पर कोई ट्रेन आ रही है या जा रही है. तब आपसे उस ट्रेन का दोगुना किराया वसूला जा सकता है. कहीं ये ट्रेन राजधानी या शताब्दी हुई तब तो आप रेलवे ट्रैक ही साफ़ करते नज़र आएंगे.


इस 10 रु. के कागज़ की बहुत क़ीमत है.

इसलिए बेवज़ह फैण्टम न बना करें. दस रुपए का टिकट चुप्पे ले लिया करें. यह प्लेटफॉर्म टिकट जारी होने के समय से दो घंटे तक मान्य रहता है. यह जानकारी टिकट पर लिखी होती है. प्लेटफार्म छोड़ते वक़्त टिकट लेने वाले को यह टिकट ड्यूटी पर तैनात टिकट संग्राहक को देना चाहिए. प्लेटफार्म टिकट वापस करने पर एक्कौ रुपया वापस नहीं होता है. इसलिए टिकट लौटाकर बाहर निकल लें. काउंटर पर खड़े होकर पइसा वापस पाने की इच्छा न करें. अन्यथा बेइज्ज़ती होने की पूरी ज़िम्मेदारी आपकी अपनी होगी. दरअसल रेलवे चाहता है कि केवल यात्रीगण ही प्लेटफॉर्म पर जाएं. जिससे फ़ालतू भीड़ इकट्ठा न हो. व्यवस्था बनी रहे. इसलिए प्लेटफॉर्म टिकट अनिवार्य किया गया है. एक प्रकार से प्लेटफॉर्म टिकट, प्लेटफॉर्म पर जाने का अनुमति पत्र होता है. यह टिकट चुनिंदा स्टेशन पर ही मिलता है. इसलिए किसी प्रकार की असुविधा से बचने के लिए प्लेटफॉर्म टिकट लेना ग़लती से भी न भूलें.

कुछ विशेष सरकारी विभागों के कर्मचारियों को प्लेटफार्म टिकट नि:शुल्क दिया जाता है. जैसे :-

डाक और टेलीग्राफ विभाग.

सेना पुलिस.

सिविल पुलिस.

राजकीय रेलवे पुलिस.

स्काउट गाइड संगठन.

रेलवे ठेकेदार और उनके स्टाफ.

और पत्रकारों को इसका सिर्फ़ एक चौथाई हिस्सा ही देना होता है.

#न्यूज़िया #plateform #ticket #railways #newziya #fine #ज़ुर्माना

111 views

©Newziya 2019, New Delhi.