• Newziya

राजकोट नगर निगम ने कोरोना पॉजिटिव लोगों की जानकारी गूगल मैप्स पर लिस्ट करी

जहाँ एक तरफ केंद्र सरकार 8 अप्रैल को एक एडवाइजरी जारी कर विस्तृत रूप से जानकारी दे चुकी है की किसी को भी कोरोना पॉजिटिव मरीज़ की जानकारी साझा करना एक सीधा-सीधा जुर्म होगा, चाहे वो पत्रकार हो या राज्य सरकारें खुद वहीँ ताज़ा मामला गुजरात के राजकोट का है, जहाँ राजकोट नगर निगम नें सीधे-सीधे कोरोना पॉजिटिव मरीज का नाम, नंबर और पता सहित गूगल मैप्स पर लिस्ट कर दिया है. यह मामला सीधे तौर पर निजता के हनन के साथ-साथ कोरोना पॉजिटिव मरीज की जानकारी देने के केंद्र सरकार की उस एडवाइजरी के उलंघन के अंतर्गत आता है.


राजकोट नगर निगम ने अपनी वेबसाइट पर एक कोरोना डैशबोर्ड बनाया है, जहाँ पर शहर की कोरोना से जुडी साड़ी जानकारी है जैसे की शहर में कितने मरीज है, कितने ठीक हुए, शहर के कौन से इलाके किस जोन में है आदि. इस कोरोना डैशबोर्ड पर गूगल मैप्स का एक प्लगइन है जिससे सारा विवाद पैदा हो गया है, इस प्लगइन से कोई भी कोरोना पोस्टिव मरीज शहर के किस इलाके से था अथवा उसका पता खोज निकाल सकता है. केंद्र सरकार ने अपनी एडवाइजरी में कहा था की कोरोना पॉजिटिव अथवा क्वारंटाइन हुए लोगों की जानकारी साझा करना अपराध होगा वहीँ देखना होगा की हाल हीं में जहाँ कई पत्रकरों पर कोरोना पॉजिटिव मरीज की जानकारी साझा करने पर मुक़दमे दर्ज हुए हैं, क्या सरकार इस पर भी एक्शन लेगी?

©Newziya 2019, New Delhi.