• Newziya

DU की लॉ फैकल्टी में अभाविप ने 'आंबेडकर,कश्मीर तथा लोकतंत्र' विषय पर आयोजित की संगोष्ठी


Seminar at DU

दिल्ली विश्वविद्यालय की लॉ फैकल्टी में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने 'आंबेडकर , कश्मीर और लोकतंत्र ' विषय पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया , जिसमें बड़ी संख्या में छात्रों ने भाग लिकर विषय से संबंधित विभिन्न पहलुओं को समझा । इस कार्यक्रम में एडिशनल सॉलिसिटर जनरल विक्रमजीत बनर्जी , कश्मीरी मामलों के जानकार सुशील पंडित तथा अभाविप के राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री श्रीनिवास ने छात्रों को संबोधित किया ।


अभाविप के राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री श्रीनिवास ने कहा कि , " आंबेडकर ने भारत में जातिगत भेदभाव तथा अस्पृश्यता जैसी बड़ी समस्याओं को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। राष्ट्र को सामाजिक समरसता एवं समानता के सूत्र में पिरोने हेतु आंबेडकर को हमेशा सम्मान के साथ याद किया जाएगा । आंबेडकर एक सच्चे राष्ट्रवादी नेता थे ।"


कश्मीरी मामलों के विशेषज्ञ सुशील‌ पंडित ने कहा कि ," कश्मीर को शेष भारत वास्तविक रूप से जोड़ने में धारा 370 सबसे बड़ी बाधा है , बाबा साहब आंबेडकर स्वयं 370 के खिलाफ थे । कश्मीर का इतिहास हमेशा से तोड़-मरोड़ कर छात्रों के समक्ष रखा जाता है , कश्मीरी नरसंहार को कथित बुद्धिजीवी बड़ी चालाकी से छुपा जाते हैं । " एडिशनल सॉलिसिटर जनरल विक्रमजीत बनर्जी ने छात्रों के मध्य बाबा साहब आंबेडकर के संघर्षपूर्ण जीवन तथा उनकी शिक्षा पर अपने विचार रखे ।



एनएसयूआई द्वारा इस कार्यक्रम को बाधित करने के प्रयास के संदर्भ में अभाविप दिल्ली के प्रदेश मंत्री सिद्धार्थ यादव ने कहा कि , "एनएसयूआई व कांग्रेस पार्टी हमेशा से यह चाहती रही है कि डॉ आंबेडकर के विचार लोगों तक ना पहुंच पाए , आज एक बार फिर से उनका वास्तविक चेहरा उजागर हुआ है । कार्यक्रम को बाधित करने का यह प्रयास सीधा-सीधा कैंपस में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हनन है । यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण एवं निंदनीय है ।

©Newziya 2019, New Delhi.