• Newziya

महाराष्ट्र में भाजपा को मिला शिवसेना का साथ

Updated: Feb 20, 2019

महाराष्ट्र का प्रमुख क्षेत्रीय दल शिवसेना. एक बार फिर लोकसभा चुनाव के पहले अपने पुराने सहयोगी दल भाजपा के साथ आ गया है.

महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में 25 पर भारतीय जनता पार्टी और 23 पर शिवसेना लड़ेगी. इसके साथ ही दोनों दलों ने विधानसभा चुनाव भी साथ लड़ने का फैसला किया है. लोकसभा चुनाव में भले ही भाजपा अतिरिक्त दो सीटों पर चुनाव लड़ रही हो, लेकिन विधानसभा की 288 सीटों पर दोनों दलों के बराबर सीटों का बंटवारा है. शेष सीटें अन्य सहयोगियों के लिए छोड़ी गई है.


इसकी घोषणा आज भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फणनवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने प्रेसवार्ता करके की.


Amit Shah, Uddhav Thakre and Devendra Fadnavis in the Press Conference

देवेन्द्र फणनवीस ने कहा कि,"हम दोनों दल 25 सालों से साथ हैं. हमारे बीच कुछ बातों को लेकर मतभेद हैं, लेकिन हमारा विचार एक है. राष्ट्रवादी विचारधारा वाले दलों को एकसाथ आना आवश्यक है. इसलिए हम लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ लड़ेंगे. हम किसानों के मुद्दों को ज़ल्द सुलझा लेंगे. हमने राष्ट्रहित में यह फैसला किया है. हमें पूरा विश्वास है कि 2019 में राजग की सरकार बनेगी."


उद्धव ठाकरे ने कहा कि ,"पुलवामा हमले में शहीद सैनिकों को हमारी श्रद्धांजलि. हमारे बीच कुछ मतभेद अवश्य हैं लेकिन मन बिल्कुल साफ़ है. राम मंदिर का मुद्दा हमारे लिए हमेशा महत्वपूर्ण रहा है. हमारे बीच जो मतभेद थे उन्हें लेकर अमित भाई से बात हो गई है. उम्मीद है आगे ऐसी स्थिति नहीं आएगी."


अमित शाह ने कहा कि,"हमारे बीच जो भी मतभेद रहे हैं आज हम यहीं ख़त्म करते हैं. शिवसेना भाजपा का सबसे पुराना सहयोगी दल है. भाजपा - शिवसेना ने सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और राम मंदिर जैसे मुद्दों को हमेशा प्रमुखता से उठाया है. मुझे पूरा भरोसा है कि शिवसेना-भाजपा मिलकर लोकसभा और विधानसभा में अपनी सरकार बनाएंगे.

©Newziya 2019, New Delhi.