• Newziya

फोटोशॉप्ड बताई जा रही तस्वीर का सच

12 फरवरी को इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रसंघ भवन का उद्घाटन था. जिसमें अखिलेश यादव आमंत्रित थे. लेकिन जिला प्रशासन ने हिंसा की आशंका के कारण अखिलेश यादव के निजी सचिव गंगाराम को पत्र ज़ारी कर उनसे ना आने का आग्रह किया था. जिसके कारण उन्हें लखनऊ स्थित अमौसी एयरपोर्ट पर ही रोक दिया गया था.

प्रदेश सरकार की कार्रवाई को अखिलेश ने लोकतंत्र की हत्या बताया था. जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के अनुरोध पर अखिलेश को विश्वविद्यालय जाने से रोका गया.


जब यह ख़बर समाजवादी छात्रसभा के समर्थकों को लगी तो उन्होंने बवाल काटना शुरू कर दिया. लक्ष्मी चौराहे और बालसन चौराहे पर प्रयागराज सुंदरीकरण के दौरान लगे लाल गमलों को तोड़ा जाने लगा. समाजवादी समर्थकों ने एक पुलिस कर्मी को पैर से मारा जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया और जी भरकर लाठियां भांजी.


उसी दौरान एक तस्वीर ली गयी. जो अमर उजाला के प्रयागराज संस्करण में छपी है, चौथे पन्ने पर. जिसमें एक कमांडो बवाली समर्थकों पर अपनी राइफल ताने हुए है. जिसे फोटोशॉप्ड बताया जा रहा है


NSG Commando pointing Gun at Samajwaadi's : Courtesy- Amar Ujala/Sanjay Banoudha


लेकिन प्राप्त जानकारी के अनुसार यह तस्वीर एकदम ओरिजिनल है. तस्वीरबालसन चौराहे की है. कैप्शन में भी लिखा है. यह तस्वीर अमर उजाला के फोटोग्राफर ने खींची है. हमारे पास यही तस्वीर दो अलग एंगल से है.


Second Angle of Above Image.


इस दूसरी तस्वीर में आप देख सकते हैं कि कमांडो और प्रदर्शनकारियों के बीच की दूरी कम है।


Third Angle of Above Image.

जबकि इस तस्वीर में आप साफ़ देख सकते हैं कि कमांडो गन प्वाइंट पर उपद्रवियों को खदेड़ रहा है।


मतलब साफ़ है. तस्वीर शुद्ध हैऔर इसके फोटोशॉप्ड होने की ख़बर उतनी ही शुद्ध अफ़वाह.

168 views

©Newziya 2019, New Delhi.