• Vishwajeet Maurya

वायरल: देखिये कानपुर जीएसवीएम की प्राचार्य का धार्मिक नफरत फैलाने वाला वीडियो

एक ओर जहां पूरा देश कोरोना से जंग लड़ रहा, जहां पूरे देश को बस देव रूपी डॉक्टरों का सहारा है जो अभी तक अपने जान को खतरे में डालकर दूसरों की जान बचाने के लिए तत्त्पर हैं वहीं दूसरी ओर हम धार्मिक मतभेद करने वाली मानसिकता से लड़ रहे हैं.

UP: खबर कानपुर से है जहां जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज की प्राचार्य डॉ. आरती लालचंदानी का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वो कोरोना संकट के बीच इस महामारी को धार्मिक रंग देने में व्यस्त हैं. वीडियो में जीएसवीएम की प्राचार्य देश तथा प्रदेश में कोरोना संकट का मुख्य वजह जमातियों को कहते हुए नज़र आ रही हैं तथा सरकार द्वारा जमातियों को दी जा रही उपचार, उनके रहने-खाने के व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए यह कहती नज़र आ रही हैं की "जमातियों का इलाज़ नहीं करना चाहिए सरकार को 2500 ₹ के टेस्टिंग किट का इनके ऊपर बर्बाद नहीं करना चाहिए, सरकार को इनके लिए लाख-डेढ़ लाख ₹ होटलों के ख़र्चे पर बर्बाद नहीं करना चाहिए, इनको जंगल में काल कोठरी में बन्द कर देना चाहिए".



वीडियो में सरकार की नीतियों पर सवाल उठाते हुए प्राचार्य साहिबा यहीं नहीं रुकी वो कोरोना संक्रमण के फैलते हुए महामारी के इस पूरे क्रम को पूरे मुस्लिम समुदाय को दोषी ठहराते हुए नफरत भरे बात  कहती हुईनज़र आ रही हैं की "पूरे 100 करोड़ जनता को ये 20 करोड़ लोगों के वजह से परेशानी उठाना पड़ रहा है". जहां एक ओर डॉक्टर भगवान बनकर लोगों की रक्षा कर रहे हैं वही  दूसरे ओर एक बड़े पद पर आसीन एक डॉक्टर महामारी को धार्मिक रंग देने में तथा नफरत फैलाने में व्यस्त है.


वीडियो वायरल होने के बाद देखते हैं योगी सरकार इस पर क्या कदम उठती है और जीएसवीएम की प्राचार्य पर क्या कार्यवाही करती है.


#GSVM #Kanpur #Coronavirus #COVID19

#UPGovt #yogiadityanath #CMYogi




ये भी पढ़ें: नहीं रहे छत्तीसगढ़ के सपनों के सौदागर "अजित जोगी"


ये भी पढ़ें: राजकोट नगर निगम ने कोरोना पॉजिटिव लोगों की जानकारी गूगल मैप्स पर लिस्ट करी


0 views

©Newziya 2019, New Delhi.